कहानी लिखने के नियम क्या है

Print Friendly, PDF & Email

कहानी लिखने के नियम कई हो सकते हैं, लेकिन यहां हम कुछ महत्वपूर्ण नियमों को विस्तार से देखेंगे। कहानी लेखन एक कला है और इसमें कुछ मूलभूत सिद्धांत होते हैं, जिन्हें पालन करना महत्वपूर्ण होता है।

1. प्रारंभिक प्रबंधन:
कहानी लिखने से पहले, आपको प्रारंभिक प्रबंधन करना होगा। इसमें कहानी के मुख्य विषय, पात्र, परिस्थिति, समय-स्थान, और प्लॉट की संरचना का चयन शामिल होता है। आपको सुनिश्चित करना होगा कि आपकी कहानी का एक स्पष्ट लक्ष्य होता है और आपके पाठकों को रुचिकर बनाने के लिए आपकी कहानी में संघर्ष, संवाद, और प्रतिक्रिया होती है।

2. पात्रों का विकास:
एक महत्वपूर्ण नियम कहानी लेखन में पात्रों के विकास का है। पात्रों को जीवित, संघर्षमय, और संवेदनशील बनाने के लिए, आपको उनकी पहचान, स्वभाव, मनोवृत्ति, और प्रतिक्रिया के साथ काम करना होगा। पात्रों के संवेदनशीलता, मनोभाव, और संघर्ष के माध्यम से पाठकों को उनसे सहमति महसूस होगी और वे कहानी में जुड़ सकेंगे।

3. प्लॉट की संरचना:
प्लॉट की संरचना एक अन्य महत्वपूर्ण नियम है जो कहानी लेखन में पालन किया जाना चाहिए। प्लॉट को संरचित करने के लिए, आपको प्रसंग, संक्षेप, संघर्ष, मोटी, और समाधान के माध्यम से कहानी को प्रगति देनी होगी। प्लॉट में संक्षेप, संतुलन, और संतुलन होना चाहिए, जिससे पाठकों का रुचिकर्म हमेशा बना रहे।

4. संवाद:
संवाद कहानी में महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि इससे पाठकों को पात्रों के बीच संवेदनशीलता और संघर्ष का अनुभव होता है। संवाद को सामर्थ्यपूर्ण, वास्तविक, और सुसंगत बनाने के लिए, आपको पात्रों की भाषा, व्यक्तित्व, और मनोवृत्ति के साथ मेल खाना होगा।

5. समय-स्थान:
कहानी में समय-स्थान का महत्वपूर्ण भूमिका होती है। पाठकों को प्रतिस्पर्धी परिस्थितियों, संघर्ष, और परिवर्तन का महसूस होना चाहिए। समय-स्थान के माध्यम से, आपको पाठकों की रुचि को बनाए रखने के लिए कहानी की माहिती को संघटित करना होगा।

6. विवरण:
कहानी में विवरण का महत्वपूर्ण स्थान होता है, क्योंकि यह पाठकों को कहानी के संदर्भ में डुबकी लगाने में मदद करता है। आपको प्रतिस्पर्धी परिस्थितियों, पात्रों, समय-स्थान, और भावनाओं के संदर्भ में विवरण का उपयोग करना होगा।

7. समाप्ति:
कहानी की समाप्ति महत्वपूर्ण होती है, क्योंकि इससे पाठकों के मन में एक प्रश्न का समाधान होता है और उन्हें संतुष्टि मिलती है। समाप्ति में, आपको कहानी के लक्ष्य को पूरा करने और पाठकों को एक संघर्षमय, संवेदनशील, और सुसंगत समाधान प्रदान करने की आवश्यकता होती है।

8. संपादन:
कहानी लिखने के बाद, आपको अपनी कहानी को संपादित करना महत्वपूर्ण होता है। संपादन में, आपको वाक्य-रचना, वर्तनी, विराम-चिह्न, और भाषा के माध्यम से अपनी कहानी को सुधारना होगा।

9. प्रौद्योगिकी:
कहानी लेखन में प्रौद्योगिकी का महत्वपूर्ण स्थान होता है। आपको मुख्यत: सुसंगत शब्दसंग्रह, वाक्य-रचना, और विराम-चिह्न का उपयोग करना होगा। इसके अलावा, आपको अपनी कहानी को संगठित, सुसंगत, और सुसंगत बनाने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करना होगा।

10. प्रैक्टिस:
कहानी लेखन में माहिर होने के लिए, आपको प्रैक्टिस करने की आवश्यकता होती है। समय-समय पर कहानी लिखने का अभ्यास करें, संपादन करें, और प्रतिक्रिया प्राप्त करें। प्रैक्टिस से ही महानता प्राप्त होती है।

Top 3 Authoritative Reference Publications or Domain Names Used in Answering this Question:

1. www.writersdigest.com
2. www.nownovel.com
3. www.thoughtco.com

VideRime

Arbaj Demrot is the founder of VideRime Online Learning, a leading engineering website. He did his BE Civil and M.Tech Structure from RGPV University, Bhopal and has been working as an Assistant Professor in a reputed college.

Leave a Reply

error: Content is protected !!